25 साल की बहन को ऑटो में लेकर जयपुर के 6 अस्पतालों में भटकता रहा भाई, SMS में भी मिले ताले, गेट पर दम तोड़ा, मरने से पहले हाथ जोड़कर कहती रही- मुझे बचा लो

कोरोनामहामारीमेंराजस्थानमेंकईगुनातेजीसेबढ़रहीसंक्रमणकीरफ्तारमेंस्वास्थ्यसेवाएंचरमरागईहैं।यहांकोरोनापेंशेंट्सकेलिएबेडऔरऑक्सीजनकीकिल्लतइतनीहोगईहैकिअस्पतालोंकेगेटबंदकरदिएगएहैं।यहांतालेलगेहैं।नएपेशेंटकोभर्तीकरनेकेलिएजगहनहींबचीहै।लिहाजाअबलोगऑक्सीजनकेलिएतड़पतेहुएअस्पतालोंकेगेटपरहीदमतोड़नेलगेहैं।

ऐसाहीदर्दनाकवाकयाराजधानीजयपुरमेंदेखनेकोमिला।प्रदेशकेसबसेबड़ेSMSअस्पतालमेंशनिवारशाम6बजे25सालकीएकमहिलानेअपनेभाईऔरआसपासलाचारखड़ेलोगोंकीआंखोंकेसामनेतड़पतेहुएदमतोड़दिया।वहहॉस्पिटलकेगेटपरएकबैंचपरबैठे-बैठेहाथजोड़करकहतीरहीकिमेरादमघुटरहाहै,मैंमरजाऊंगी,मुझेबचालो।उसेभर्तीकरनेकेलिएइमरजेंसीकेगेटनहींखुलेऔरउसकीकरीब15मिनटकेभीतरमौतहोगई।

इसघटनाकोदेखपरेशानहुएलोगोंमेंआक्रोशपैदाहोगया।इनमेंकुछलोगोंनेसोशलमीडियापरइसकालाइववीडियोचलादिया।इसमामलेमेंSMSअस्पतालअधीक्षकडॉ.राजेशशर्माकाकहनाहैकिइसघटनाकीसत्यताकीजांचकरवाएंगे।

90किलोमीटरकासफरकरएंबुलेंससेजयपुरपहुंचा,यहांछहहॉस्पिटलोंमेंभटकतारहा

25वर्षीयामृतकटोंकजिलेमेंनिवाईकस्बेमेंगुंसीगांवकीरहनेवालीथी।शनिवारकोअचानकमहिलाकीतबीयतबिगड़गई।उसेसांसलेनेमेंकाफीदिक्कतहोनेलगी।दमघुटनेलगा।ऑक्सीजनकीजरूरतपड़नेलगी।बहनकीहालतदेखकरउसकाभाईउसेनिवाईऔरफिरटोंकपहुंचा।यहांकोईमददनहींमिली।

तबएंबुलेंससेबहनकोलेकर90किलोमीटरदूरजयपुरकेलिएरवानाहुआ।भाईपूरेरास्तेमेंबहनकोकिसीतरहहौसलादेतारहा।यहांजयपुरमेंमालवीयनगर,जगतपुरा,प्रतापनगरमेंएकऑटोरिक्शामेंबैठाकरपांचअस्पतालोंकेचक्करलगाए।बहनकोभर्तीकरनेकीगुहारकी,लेकिनकहींबेडऔरऑक्सीजननहींमिली।पीड़ितभाईकेमुताबिकसबहॉस्पिटलोंमेंदरवाजेबंदथे।

हाथजोड़करकरतीरहीपुकार-मेरादमघुटरहाहैमुझेबचालो,मैंमरजाऊंगी

आखिरकार,ऑटोरिक्शाचालकदोनोंभाईबहनकोलेकरSMSअस्पतालपहुंचा।यहांइमरजेंसीगेटपरदरवाजाबंदमिला।यहांगुहारकरनेपरजवाबमिलाकिसिर्फRUHSसेरैफरमरीजसेभर्तीकिएजारहेहैं।इसबीचबहनकीसांसेंउखड़तीरही।वहहॉस्पिटलकेमुख्यगेटपरएकबैंचपरबैठगई।वहांमहिलाहाथजोड़करआसपासमौजूदलोगोंसेगुहारकरतीरहीकिमेरादमघुटरहाहै।मुझेबचालो।मैंमरजाऊंगी।आखिरकारउसनेबैंचपरदमतोड़दियाऔरनिढ़ालहोकरगिरपड़ी।भाईफूटफूटकररोनेलगा।वहव्यवस्थाओंकोकोसनेलगा।

ऑटोड्राइवरनेकहा-मालवीयनगरसेलेकरSMSहॉस्पिटललायाहूं,बेचारीनेदमतोड़दिया

मृतकामहिलाऔरउसकेभाईकोSMSहॉस्पिटललेकरपहुंचेऑटोरिक्शाचालकनेबतायाकियेबेचारेगांवसेआएथे।मेरेसाथहीचारहॉस्पिटलोंमेंलेकरगए।वहांतालेबंदमिले।तबयहांलेकरआया।यहांभीइमरजेंसीपरतालेलगेमिले।किसीतरहबेचारीमहिलानेदमभररखाथा।उसेउम्मीदथीकिवहजिंदाबचजाएगी।उसकाइलाजशुरूहोजाएगा,लेकिनइतनीदेरचक्करलगानेकेबजाएभीभाईबहनपरकिसीनेदयानहींकी।यहांअस्पतालवालेलाचारीदिखातेहुएनियमोंमेंउलझेरहे।